Best 300+ Mixed Shayari (Poetry) In Hindi / Urdu

0
1368

Attitude Shayari

हमें शायर समझ के यूँ नजर अंदाज मत करिये,
नजर हम फेर ले तो हुस्न का बाजार गिर जायेगा।
Humein Shayar Samajh Ke Yoon Nazar Andaz Mat Kariye,
Nazar Hum Fer Le To Husn Ka Baazar Gir Jayega.

हमारी हैसियत का अंदाज़ा तुम ये जान के लगा लो,
हम कभी उनके नहीं होते जो हर किसी के हो गए।
Humari Haisiyat Ka Andaza Tum Ye Jaan Ke Laga Lo,
Hum Kabhi Unke Nahi Hote Jo Har Kisi Ke Ho Gaye.

दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को है हमसे पर,
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ जज्बातों की कदर होगी।
Dikhaawe Ki Mohabbat To Zamane Ko Hai Humse Par,
Ye Dil To Wahan Bikega Jahan Jazbaaton Ki Kadar Hogi.

औक़ात नहीं थी जमाने की जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे मुफ़्त में नीलाम हो गए।
Aukat Nahi Thi Zamane Ki Jo Meri Keemat Laga Sake,
Kambakht Ishq Mein Kya Gire Muft Mein Neelam Ho Gaye.

मेरे दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद,
वक़्त-बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं,
मेरी गली से गुजरते हैं छुपा के खंजर,
रुबरू होने पर सलाम किया करते हैं


Mere Dushman Bhi Mere Mureed Hain Shayad,
Waqt-BeWaqt Mera Naam Liya Karte Hain,
Meri Gali Se Gujarte Hain Chhupa Ke Khanzar,
Ru-Ba-Ru Hone Par Salaam Kiya Karte Hain.

हालात के कदमों पर समंदर नहीं झुकते,
टूटे हुए तारे कभी ज़मीन पर नहीं गिरते,
बड़े शौक से गिरती हैं लहरें समंदर में,
पर समंदर कभी लहरों में नहीं गिरते


Haalat Ke Kadamo Par Sikandar Nahi Jhukte,
Toote Huye Taare Kabhi Zamin Par Nahi Girte,
Bade Shauk Se Girti Hai Lahrein Samundar Mein,
Par Samundar Kabhi Lahron Mein Nahi Girte.

Sad Shayari

हर तन्हा रात में एक नाम याद आता है,
कभी सुबह कभी शाम याद आता है,
जब सोचते हैं कर लें दोबारा मोहब्बत,
फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है


Har Tanha Raat Mein Ek Naam Yaad Aata Hai,
Kabhi Subhah To Kabhi Shaam Yaad Aata Hai,
Jab Sochte Hain Kar Lein Dobara Mohabbat,
Fir Pehli Mohabbat Ka Anjaam Yaad Aata Hai.

देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है,
दिल धड़कता है सहूलियत से यही काफी है,
हाल दुनिया के सताए हुए कुछ लोगों का,
जो पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है


Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai,
Dil DhadakTa Hai Sahuliyat Se Yehi Kaafi Hai,
Haal Duniya Ke Sataaye Huye Kuchh Logon Ka,
Jo Poochh Lete Ho Shararat Se Yehi Kaafi Hai.

इस तरह मिली वो मुझे सालों के बाद,
जैसे कोई हक़ीक़त मिली हो ख्यालों के बाद,
मैं पूछता ही रहा उससे खताएं अपनी,
वो बहुत रोई थी मेरे सवालों के बाद


Iss Tarah Mili Wo Mujhe Saalo Ke Baad,
Jaise Koi Haqikat Mili Ho Khayalon Ke Baad,
Main Poochhta Hi Raha Uss Se Khatayein Apni,
Wo Bahut Royi Thi Mere Sawaalon Ke Baad.

Udaas Karti Hain Nishaniyan Teri

वो तेरे खत तेरी तस्वीर और सूखे फूल,
बहुत उदास करती हैं मुझको निशानियाँ तेरी।
Wo Tere Khat Teri Tasvir Aur Sookhe Phool,
Bahut Udaas Karti Hain Mujhko Nishaniyan Teri.

अब न खोलो मेरे घर के उदास दरवाज़े,
हवा का शोर मेरी उलझनें बढ़ा देता है।
Ab Na Kholo Mere Ghar Ke Udaas Darwaze,
Hawa Ka Shor Meri Uljhanein Bada Deta Hai.

बिछड़ के मुझसे तुम अपनी कशिश न खो देना,
उदास रहने से चेहरा खराब होता है।
Bichhad Ke Mujhse Tum Apni Kashish Na Kho Dena,
Udaas Rehne Se Chehra Kharab Hota Hai.

मुझे ये डर है तेरी आरजू न मिट जाये,
बहुत दिनों से तबियत मेरी उदास नहीं।
Mujhe Ye Darr Hai Teri Aarzoo Na Mit Jaye,
Bahut Dinon Se Tabiyat Meri Udaas Nahin.

जो हो सके तो चले आओ आज मेरी तरफ़,
मिले भी देर हो गई और जी भी उदास है।
Jo Ho Sake To Chale Aao Aaj Meri Taraf,
Mile Bhi Der Ho Gayi Aur Jee Bhi Udaas Hai.

उदास कर देती है हर रोज ये शाम मुझे,
लगता है तू भूल रहा है मुझे धीर-धीरे।
Udaas Kar Deti Hai Har Roj Ye Shaam Mujhe,
Lagta Hai Tu Bhool Raha Hai Mujhe Dheere-Dheere.

Kaanton Pe Bhi Haq Humara Nahi

चल मेरे हमनशीं अब कहीं और चल,
इस चमन में अब अपना गुजारा नहीं,
बात होती गुलों तक तो सह लेते हम,
अब काँटों पे भी हक हमारा नहीं।

Chal Mere Hum-Nashin Ab Kahin Aur Chal,
Iss Chaman Mein Ab Apna Gujaara Nahi,
Baat Hoti Gulon Tak To Seh Lete Hum,
Ab To Kaanton Pe Bhi Haq Humara Nahi.

खुद को कुछ इस कदर तबाह किया,
इश्क़ किया एक खूबसूरत गुनाह किया,
जब मोहब्बत में न थे तब खुश थे हम,
दिल का सौदा हमने बेवजह किया।

Khud Ko Kuchh Iss Kadar Tabaah Kiya,
Ishq Kiya Ek KhoobSurat Gunaah Kiya,
Jab Mohabbat Mein Na The Tab Khush The Hum,
Dil Ka Sauda Humne BeWajah Kiya.

Love Shayari

Tere Khayal Se Khud Ko

तेरे ख्याल से खुद को छुपा के देखा है,
दिल-ओ-नजर को रुला-रुला के देखा है,
तू नहीं तो कुछ भी नहीं है तेरी कसम,
मैंने कुछ पल तुझे भुला के देखा है


Tere Khayal Se Khud Ko Chhupa Ke Dekha Hai,
Dil-o-Najar Ko Rula-Rula Ke Dekha Hai,
Tu Nahi To Kuchh Bhi Nahi Hai Teri Kasam,
Maine Kuchh Pal Tujhe Bhula Ke Dekha Hai.

हम आपकी हर चीज़ से प्यार कर लेंगे,
आपकी हर बात पर ऐतबार कर लेंगे,
बस एक बार कह दो कि तुम सिर्फ मेरे हो,
हम ज़िन्दगी भर आपका इंतज़ार कर लेंगे


Hum Aapki Har Cheez Se Pyar Kar Lenge,
Aapki Har Baat Par Aitbaar Kar Lenge,
Bas Ek Bar Keh Do Ki Tum Sirf Mere Ho,
Hum Zindagi Bhar AapKa Intezaar Kar Lenge.

कुछ सोचता हूँ तो तेरा ख्याल आ जाता है,
कुछ बोलता हूँ तो तेरा नाम आ जाता है,
कब तक छुपा के रखूं दिल की बात को,
तेरी हर अदा पर मुझे प्यार आ जाता है


Kuchh Sochta Hoon To Tera Khayal Aa Jata Hai,
Kuchh Bolta Hoon To Tera Naam Aa Jata Hai,
Kab Tak Chhupa Ke Rakhun Dil Ki Baat Ko,
Teri Har Adaa Par Mujhe Pyar Aa Jata Hai.

मुझे खामोश राहों में तेरा साथ चाहिए,
मेरा हाथ तन्हा है तेरा हाथ चाहिए,
हसरत-ए-ज़िन्दगी को तेरी ही सौगात चाहिए,
मुझे जीने के लिए तेरा ही बस साथ चाहिए


Mujhe Khamosh Raahon Mein Tera Saath Chahiye,
Mera Haath Tanha Hai Tera Haath Chahiye,
Hasrat-e-Zindagi Ko Teri Hi Saugaat Chahiye,
Mujhe Jeene Ke Liye Tera Hi Bas Saath Chahiye.

Agar Ishq Karo To

अगर इश्क करो तो आदाब-ए-वफ़ा भी सीखो,
ये चंद दिन की बेकरारी मोहब्बत नहीं होती
Agar Ishq Karo To Aadaab-e-Wafa Bhi Seekho,
Yeh Chand Din Ki Bekaraari Mohabbat Nahin Hoti.

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए,
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
Jaagne Ki Bhi Jagaane Ki Bhi Aadat Ho Jaye,
Kaash Tujhko Kisi Shayar Se Mohabbat Ho Jaye

दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद,
अब मुझको नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद
Duniya Ke Sitam Yaad Na Apni Hi Wafa Yaad,
Ab Mujhko Nahi Kuchh Bhi Mohabbat Ke Siwa Yaad.

जादू वो लफ़्ज़ लफ़्ज़ से करता चला गया,
मीठा नश्तर था दिल में उतरता चला गया
Jadoo Woh Lafz Lafz Se Karta Chala Gaya,
Meetha Nashtar Tha Dil Mein Utarta Chala Gaya.

मैंने जान बचा के रखी है अपनी जान के लिए,
इतना प्यार कैसे हो गया एक अनजान के लिए
Maine Jaan Bacha Ke Rakhi Hai Apni Jaan Ke Liye,
Itna Pyar Kaise Ho Gaya Ek Anjaan Ke Liye.

Khuabon K ghar me

नहीं जो दिल में जगह तो नजर में रहने दो,
मेरी हयात को तुम अपने असर में रहने दो,
मैं अपनी सोच को तेरी गली में छोड़ आया हूँ,
मेरे वजूद को ख़्वाबों के घर में रहने दो

Nahi Jo Dil Mein Jagah To Najar Mein Rehne Do,
Meri Hayaat Ko Tum Apne Asar Mein Rehne Do,
Main Apni Soch Ko Teri Gali Mein Chhod Aaya Hun,
Mere Wajood Ko Khwabon Ke Ghar Mein Rehne Do.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here